Followers

Friday, January 20, 2012

हनुमान लीला - भाग ३

                           नहिं कलि करम न भगति बिबेकू, राम   नाम    अवलंबन    एकू
                           कालनेमि   कलि   कपट  निधानू, नाम  सुमति समरथ हनुमानू

'कलियुग में न कर्म है, न भक्ति है और न ज्ञान ही है.केवल रामनाम  ही एक आधार है.कपट की खान
कलियुग रुपी कालनेमि को मारने के लिए 'रामनाम' ही बुद्धिमान और समर्थ श्रीहनुमानजी हैं.'

मेरी  पोस्ट   'रामजन्म -आध्यात्मिक चिंतन-२'   में  श्रीरामचरितमानस  में  वर्णित  कलियुग  का
निम्न  आध्यात्मिक निरूपण  किया गया था.

                      तामस बहुत रजोगुण थोरा ,   कलि प्रभाव विरोध चहुँ ओरा

हमारे हृदय में जब तमोगुण अर्थात आलस्य, अज्ञान, प्रमाद,  हिंसा आदि  बहुत बढ़ जाये ,रजोगुण अर्थात 
क्रियाशीलता कम हो जाये,और सतोगुण यानि ज्ञान व विवेक का तो मानो लोप ही हो जाये, चहुँ  ओर विरोधी 
वृत्तियों का ही हृदय में वास हो, सब तरफ अप्रसन्नता और विरोध हो, तो कह सकते हैं हम उस समय 
'घोर 'कलियुग' में ही जी रहे है.

कलियुग  मन की निम्नतम स्थिति या अधोगति की वह  अवस्था है जिस  में सकारात्मक सोचने और
निर्णय करने की शक्ति यानि विवेक का सर्वथा अभाव होने से कोई सद्कर्म नही हो पाता. न ही मन
ईश्वर से जुड़ने अर्थात भक्ति का आश्रय ले पाता है. मन में विरोधी वृत्तियों का वास 'कालनेमि' राक्षस
के समान सदा ही धोखा देने और ठगने में लगा रहता है. 'कालनेमि'  हमारे अहंकार रुपी रावण का ही
एक सहयोगी है. जो ठग विद्या में अति निपुण है.यह  'राम नाम' का झूंठा प्रदर्शन और ढोंग  करके
हनुमान जी को भी ठगना चाहता है.परन्तु, हनुमान जी सदा सजग है,बुद्धिमान है.इसीलिए वे कालनेमि
राक्षस के कपट को समझ लेते हैं और अंतत:उसका वध कर डालते है.  सही प्रकार से नित्य सजग  'नाम
स्मरण' वीर हनुमान की तरह ही हमारी कपट और ढोंग से रक्षा करता रहता है.

मेरी पिछली पोस्ट 'हनुमान लीला - भाग २' में हमने जाना कि 'हनुमान' शब्द ने किस प्रकार से अपने अंदर
'ऊँ' कार रुपी परमात्मा के नाम  को धारण कर रक्खा है. यदि हम हृदय  में 'आकार' को धारण करते हैं,तो
अहंकार की उत्पत्ति होती है.  आकार शरीर,मन ,बुद्धि आदि किसी भी  स्तर  पर दिया जा सकता है.यदि
शरीर के आधार पर मैं स्वयं को मोटा,पतला,गोरा,शक्तिशाली,सुन्दर आदि  होने का मान दूँ तो तदनुसार ही
मेरे  अहंकार का उदभव होता है व  मैं  खुद को वैसा ही समझने लगता हूँ .इसी प्रकार मन के आधार पर सुखी,
दुखी, बुद्धि के आधार पर बुद्धिमान, तार्किक आदि होने का अहंकार होता है. पर 'हनुमान' तो किसी भी
आकार को धारण न कर केवल 'ऊँ' कार को ही धारण करते हैं.जिसका अर्थ है वे हमेशा 'ऊं ' को ध्याते हैं,
'ऊं' का भजन करते हैं,'ऊं' का ही मनन करते हैं.हनुमान इतने निरभिमानी हैं कि वे परमात्मा के ध्यान
में स्वयं को भी भूल जाते हैं.इसीलिए जाम्बवान (रीछ पति) को उनका आह्वाहन करते हुए कहना पड़ता है
             
                      कहइ  रीछपति सुनु  हनुमाना,का चुप  साधी रहेउ  बलवाना 
                      पवन तनय बल पवन समाना,बुद्धि बिबेक बिग्यान निधाना
          

'ऊँ' को ध्याने से 'ऊं' का जप करने से प्राणायाम की  स्थिति होती है , प्राण की उर्ध्व गति होती है.सांसारिक
और विषयों के चिंतन से प्राण की अधोगति होती है.क्यूंकि तब 'साँस' विषमता को प्राप्त  होता रहता है.
परन्तु , जब 'ऊँ' का उच्चारण किया जाता है तो जितनी देर  या लम्बा हम 'ओ' बोलते हैं , शरीर से कार्बन
डाई ऑक्साइड (CO2) उतनी ही अधिक बाहर निकलती है. जैसे ही 'म' कहकर 'ओम्' का उच्चारण पूर्ण कर
लिया जाता है , इसके बाद लंबी   साँस के द्वारा ऑक्सीजन (O2) शरीर में  गहराई  से प्रवेश करती है.इस
पूरी प्रक्रिया में  जहाँ शरीर स्वस्थ होता है,मन और बुद्धि भी शांत होते जाते हैं. अधिकतर मन्त्रों  में  'ऊँ' का
सर्वप्रथम होने का यही कारण है कि 'ऊँ' परमात्मा का आदि नाम है तथा प्राण को हमेशा 'उर्ध्व' गति प्रदान
करता है.इसीलिए तो हनुमान 'ऊँ' को सैदेव हृदय में धारण किये हुए हैं.कहते हैं जब उनसे पूछा गया कि
'सीता राम' कहाँ हैं तो उन्होंने अपना सीना फाड़ कर सभी को 'सीता राम' के दर्शन करा दिए.'सीता' यानि
परमात्मा की परा भक्ति , राम यानि 'सत्-चित-आनन्द' परमात्मा सदा ही उनके हृदय में विराजमान हैं.

हनुमान की भगवान के प्रति अटूट  शरणागति सभी के लिए अनुकरणीय है.शरणागति का सरलतम
अर्थ है 'आश्रय'की अनुभूति.दुनिया का ऐसा कोई जीव  नही है जिसको आश्रय या सहारे की आवश्यकता
न हो.परन्तु आश्रय किसका ?यह बात अलग हो सकती है.भविष्य की अनिश्चितता के कारण प्राय:  सभी
के मन मे संदेह,भय,असुरक्षा घर किये रहते हैं.यदि सही आश्रय मिल जाता है तो व्यक्ति निश्चिन्त सा हो
जाता है.सांसारिक साधन कुछ हद तक ही सहारा देते हैं,अत: वे सापेक्ष (relative)  हैं.जब तक समुचित
सहारे का अनुभव नही होता,मन अशांत होता रहता है.ईश्वर का आश्रय होने से चित्त में आनन्द का
आविर्भाव होता है,चित्त में निश्चिन्तता आती है. हनुमान  हमेशा निश्चिन्त हैं ,क्यूंकि उनका आश्रय
'राम' हैं, जो निरपेक्ष(absolute) है,स्थाई  और चेतन आनन्द  है,शरणागत वत्सल है.

समस्त अनिश्चिंतता,भय संदेह ,असुरक्षा का कारण 'मोह' अर्थात अज्ञान है,अज्ञान के साथ अभिमान
अर्थात यह मानना कि मुझे किसी आश्रय की आवश्यकता नही है अत्यंत शूलप्रद और कष्टदायी होता है.
रावण को लंका दहन से पूर्व समझाते हुए इसलिये हनुमान जी कहते हैं.
                                       
                                        मोहमूल बहु सूल प्रद त्यागहु तम अभिमान 
                                        भजहु  राम  रघुनायक  कृपा  सिंधु भगवान 

शस्त्र और शास्त्र दोनों के धनी श्री गुरू गोविन्द सिंह जी भी सुस्पष्ट शब्दों में कहते हैं:-
                                           
                                                सबै  मंत्रहीनं   सबै    अंत कालं 
                                                भजो एक चित्तं  सुकालं कृपालं 
                            'जब अंत समय आता है तो सभी मंत्र निष्फल हो जाते हैं,
                             इसीलिए मन लगाकर  कृपा सिंधु प्रभु का भजन  करो.'

यदि हृदय में मोह और अभिमान छोड़ प्रभु को धारण कर हनुमान जी की तरह प्रभु का भजन किया
जाये तो कलि युग रुपी कपट की खान कालनेमि हमारा  कुछ भी बिगाड नही सकता है.

आप सभी सुधिजनों का मैं दिल से आभार व्यक्त करता हूँ कि आपने मेरी हनुमान लीला की पिछली
दोनों पोस्टों ('हनुमान लीला-भाग १' तथा 'हनुमान लीला - भाग २') को मेरी लोकप्रिय (popular) पोस्टों
में लाकर  प्रथम व द्वितीय स्थान पर पहुँचा दिया है.आशा है आप मेरी इस पोस्ट पर भी  अपने प्यार,
सहयोग और सुवचनों  के द्वारा   मेरा उत्साहवर्धन अवश्य करेंगें.यदि आप सभी की अनुमति और परामर्श
हो तो अगली कड़ी भी मैं हनुमान लीला पर ही आधारित रखना चाहूँगा.

आप सभी को नववर्ष की शुभकामनाएँ,मकर सक्रांति की शुभकामनाएँ और आनेवाले गणतंत्र दिवस की
बहुत बहुत शुभकामनाएँ.

 




133 comments:

  1. 'ऊँ' को ध्याने से 'ऊं' का जप करने से प्राणायाम की स्थिति होती है , प्राण की उर्ध्व गति होती है.सांसारिक
    और विषयों के चिंतन से प्राण की अधोगति होती है.क्यूंकि तब 'साँस' विषमता को प्राप्त होता रहता है.

    एक मन्त्र वाक्य ....बाकी की बात बाद में करेंगे ....अभी मुझे सोचना है फिर टिप्पणी करूँगा .......!

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति!
    --
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहाँ, कोई नहीं प्रपंच।।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. आपके ब्लाग पर आना किसी पूजा-अर्चना स्थल पर हो आने सा लगता है

    ReplyDelete
  5. हनुमान जी के बारे में जितना कहा जाये उतना कम ही है। आप भी अपने लेख में कुछ विशेष ले कर आते है।

    ReplyDelete
  6. सब कुछ दिन प्रतिदिन सत्य होता दिख रहा है..

    ReplyDelete
  7. वे बचपन से ही संकट मोचक रहे हैं ..
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  8. कलियुग में न कर्म है,न भक्ति है और न ज्ञान ही है

    ये सत्य है की कलयुग में किसी का कोई कर्म नहीं है लेकिन हनुमान का कलयुग में सभी पर पूरा प्रभाव है ..... सुंदर प्रस्तुति

    जय बजरंग बलि की जय
    गहन लेख आपका आभार....राकेश जी

    ReplyDelete
  9. आपका लेख में गहराई है ..समझने के लिए बहुत कुछ है.
    .ॐ का ज्ञान दिया ,धन्यवाद ..
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. Thanks for imparting wisdom about OM...
    Profound post Sir...

    ReplyDelete
  11. सच है कलयुग में सिर्फ हनुमान जी ही सही मार्ग पर चलने के प्रेरणा दे सकते है वर्ना कालनेमि तो है ही पथ्भ्रस्त करने को . जय हनुमान राकेश जी

    ReplyDelete
  12. आपके सद-लेखन को शत शत प्रणाम |

    आपके लिखे पर टिप्पणी करने की तो मेरी काबिलियत नहीं है - बस प्रसाद ले कर इस सत्संग से जा रही हूँ |

    ReplyDelete
  13. बचपन से हनुमान जी की पूजा अर्चना कर रहे हैं. कभी बाधाओं को उन्होंने ही पार करवाया है. इतना गंभीर अध्यनन पहले कहीं देखा नहीं. आपका अध्यनन देख विस्मित हूं..

    ReplyDelete
  14. कितना सात्विक लेखन है आपका ... इस अनुपम प्रस्‍तुति के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  15. कलयुग प्रभाव की सटीक व्याख्या हुई है…

    "तमोगुण अर्थात आलस्य, अज्ञान, प्रमाद, हिंसा आदि बहुत बढ़ जाये ,

    बस यही कलयुग है।

    इससे अलिप्त रहने का मार्ग ही हनुमान सत्संग है।

    बहुत सुन्दर भक्तियुक्त विश्लेषण, राकेश जी, प्राणाम स्वीकारें!!

    ReplyDelete
  16. सच है कलयुग में सिर्फ हनुमान जी ही कालनेमि के प्रभाव से बचा सकते हैं। बहुत गहन आलेख के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  17. गुरूजी प्रणाम ! यह अंक भी आध्यात्म अनुभूति से सराबोर कर दिया ! " ईश्वर का आश्रय होने से चित्त में आनन्द का आविर्भाव होता है,चित्त में निश्चिन्तता आती है.! " बहुत खूब !

    ReplyDelete
  18. " एकं सत विप्रा बहुधा वदन्ति "... उपनिषद कहते हैं कि - एक ही सत्य है जिसे बहुत ढंग से कहा जाता है .उसी सत्य को आपने पुनर्व्याख्यायित किया है .जिसके लिए आप बधाई एवं नमन योग्य हैं . सही कहा आपने विचार ही वो दिव्य-दृष्टि है जिससे हनुमान बन कर श्री राम को पाया जा सकता है .राम से साक्षात्कार ही परमानन्द की अनुभूति देती है . जो इस संसार रूपी दीर्घ रोग का सबसे श्रेष्ठ औषध है . पुन : आपका बहुत-बहुत आभार पुन : श्रेष्ठ चिंतन के लिए .

    ReplyDelete
  19. आप के द्वारे, सत्संग का प्रसाद पाकर, मन निर्मल और भावना शुद्ध हो जाती है ....
    जय वीर हनुमान ....

    ReplyDelete
  20. हनुमान हमेशा निश्चिन्त हैं ,क्यूंकि उनका आश्रय
    'राम' हैं, जो निरपेक्ष(absolute) है,स्थाई और चेतन आनन्द है,शरणागत वत्सल है.

    भक्तिमय करती हुई ज्ञान की गंगा... संग्रहनीय पोस्ट !

    ReplyDelete
  21. यदि सही आश्रय मिल जाता है तो व्यक्ति निश्चिन्त सा हो
    जाता है.सांसारिक साधन कुछ हद तक ही सहारा देते हैं,अत: वे सापेक्ष (relative) हैं.जब तक समुचित सहारे का अनुभव नही होता,मन अशांत होता रहता है.ईश्वर का आश्रय होने से चित्त में आनन्द का आविर्भाव होता है,चित्त में निश्चिन्तता आती है.

    आपके आलेख को पढ़कर मन बहुत आनंदित है... वही है सबसे बड़ा सहारा जो हमें निश्चिन्त कर देता हैं "हमारा ईशवर" स्थाई और चेतन आनन्द... आभार आपका

    ReplyDelete
  22. nice post
    one has to limit greedy and selfishness.

    ReplyDelete
  23. Aapke blog mein to gyaan ki anupam sarita beh rahi hai... achha laga yahan aana... ab nitya padha karunga.. :)

    ReplyDelete
  24. यदि हृदय में मोह और अभिमान छोड़ प्रभु को धारण कर हनुमान जी की तरह प्रभु का भजन किया
    जाये तो कलि युग रुपी कपट की खान कालनेमि हमारा कुछ भी बिगाड नही सकता है.....बिल्कुल सही कहा राकेश जी आप ने.....भक्तिमय करती अमूल्य आलेख..आभार

    ReplyDelete
  25. हनुमानजी का सहारा तो हमसब को है ...अगली कड़ी में भी हनुमान लीला का वर्णन हो तो आनंद आ जाएगा ,आभार

    ReplyDelete
  26. आदरणीय गुरु जी नमस्ते ...बहुत ज्ञानवर्धक पोस्ट है आपका अभी थोड़ा समझने की कोशिश कर रहा हूँ ...आगे फिर आउंगा फिर बातें होंगी ...

    ReplyDelete
  27. सांसारिक साधन कुछ हद तक ही सहारा देते हैं,अत: वे सापेक्ष (relative)हैं.जब तक समुचित
    सहारे का अनुभव नही होता,मन अशांत होता रहता है.ईश्वर का आश्रय होने से चित्त में आनन्द का
    आविर्भाव होता है,चित्त में निश्चिन्तता आती है. हनुमान हमेशा निश्चिन्त हैं ,क्यूंकि उनका आश्रय
    'राम' हैं, जो निरपेक्ष(absolute) है,स्थाई और चेतन आनन्द है,शरणागत वत्सल है.

    Ram naam ki loot hai loot sake to loot, antkal pachhtayega pran jayein jab chhoot.

    is chintan ke liye hriday se abhaar.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  28. आपकी पोस्ट पढ़ते समय चित्त एकाग्र हो जाता है, कुछ पल के लिए स्वयम् को भुला देता हूँ, चमत्कारी कलम के धनी हैं आप. प्रभु की यह कृपा आप पर सदा बनी रहे.

    ReplyDelete
  29. rakesh ji badhaayee ,aapkaa blog padhaa itne vistaar aur aasaan tareeke se samjhaayaa aapne

    ReplyDelete
  30. राकेश सहब, अभी अपनी स्थिति आपकी पोस्ट के शुरुआती पैराग्राफ़ जैसी है लेकिन भविष्य के लिये आपकी पोस्ट के ही थर्ड लास्ट अनुच्छेद का अवलंबन है -
    ’यदि हृदय में मोह और अभिमान छोड़ प्रभु को धारण कर हनुमान जी की तरह प्रभु का भजन किया
    जाये तो कलि युग रुपी कपट की खान कालनेमि हमारा कुछ भी बिगाड नही सकता है."
    साकार और निराकार मार्ग बेशक अलग हों लेकिन मंजिल दोनों की एक ही है, जिसको जैसे समझ आये उसी रूप में अपना ले।
    आप जो भी लिखेंगे,आपकी लेखनी मार्ग दर्शन का काम करेगी - ऐसा विश्वास है। आप से मिलने के बाद यकीनन ऐसा कह सकता हूँ क्योंकि आपने इन सात्विक भावनाओं को जीवन में उतार रखा है।
    स्नेह और आशीर्वाद बनाये रखें।

    ReplyDelete
  31. बहुत अच्छी ज्ञानवर्धक प्रस्तुति ,,बेहतरीन पोस्ट.लाजबाब
    new post...वाह रे मंहगाई...

    ReplyDelete
  32. .....भक्तिमय करती अमूल्य आलेख..आपके ब्लाग पर आना किसी पूजा-अर्चना स्थल पर हो आने सा
    लगता है

    ReplyDelete
  33. very nice...very detailed and expressed nicely
    :)
    good post!

    ReplyDelete
  34. सुंदर चिंतन ..... बजरंग बली में बहुत आस्था है मेरी है ..

    ReplyDelete
  35. aap ki ye post bhi bahut hi uttm hai,hanumaan ji ke prti aap ki aasthadekh kar bahut khushi huee.....bhaktipurn post ke liye shukriya....

    ReplyDelete
  36. हनुमत-कृपा सब पर बनी रहे !

    ReplyDelete
  37. aapke adhyatm chintan ka jababa nahin sir ji ! aap to itani gahrayiyan pa gaye ki ab vapas aana gunah hoga .... chalata rahe yah aatm manthan prabhu ka .

    ReplyDelete
  38. ghayanvardhak aur hanuman ji ki kripa sab kuch hai

    ReplyDelete
  39. आध्यात्म का गहन परिप्रेक्ष्य यहाँ मिलता है ...

    ReplyDelete
  40. अमूल्य आलेख.......सुंदर चिंतन !!!

    ReplyDelete
  41. Hinumt kripa nishchay hi badi se badi badhaon ko par kara deti hai .....bahut hi prabhavshali post badhai sweekaren Rakesh ji.

    ReplyDelete
  42. hanumant apni kripa sab par banaye rakhe ....yahi prarthana hai....badhiya prastuti

    ReplyDelete
  43. नमस्कार राकेश जी
    जय हनुमान ..........आपकी हनुमान लीला से हम हर बार भाव बिहोर हो गए .....हनुमान तो तारण हार है हार संकट को हार लेते है . जय हनुमान ज्ञान गुण सागर ....जय कपिश तिहूँ लोक उजागर .........

    ReplyDelete
  44. Hanuman is an element a system for eiminating corruption and purifying our hearts from lust and ego and the likes.Good to read this post .

    ReplyDelete
  45. namaskaar rakeshji
    bahut hi sundar post
    khaskar mere jaise yuva ke liye to ek gyan vardhak post
    dhanaywad is post ke liye
    jai hanumaaan
    jai shree raam
    om namah shivay

    ReplyDelete
  46. जब 'ऊँ' का उच्चारण किया जाता है तो जितनी देर या लम्बा हम 'ओ' बोलते हैं , शरीर से कार्बन
    डाई ऑक्साइड (CO2) उतनी ही अधिक बाहर निकलती है. जैसे ही 'म' कहकर 'ओम्' का उच्चारण पूर्ण कर लिया जाता है , इसके बाद लंबी साँस के द्वारा ऑक्सीजन (O2) शरीर में गहराई से प्रवेश करती है.इस पूरी प्रक्रिया में जहाँ शरीर स्वस्थ होता है,मन और बुद्धि भी शांत होते जाते हैं.

    अध्यात्म ओर भक्ति के साथ-साथ वैज्ञानिक तथ्य का समावेश करने से

    यह पोस्ट अतुलनीय हो गई है|कलियुग में श्रीरामभक्त हनुमानजी पर आस्था बनी रहे...

    इस पोस्ट के लिए आभार!

    ReplyDelete
  47. प्राण वायु की तरह आत्मसात करने वाली पोस्ट। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  48. बहुत सार्थक एवं बुद्धिगम्य विवेचन है.कथा में प्रतीकात्मकता के समावेश से चरित्रो को अच्छा स्पष्टीकरण मिला है -आभार !

    ReplyDelete
  49. बहुत बढ़िया राकेश जी...
    आध्यात्म को बेहद सहज तरीके से हम तक पहुंचाया है...
    शुक्रिया...
    अगली लीला की प्रतीक्षा रहेगी...
    सादर.

    ReplyDelete
  50. राकेशजी, बहुत अच्छा लगा पढ़कर| आप इतने अच्छे ज्ञान बाटते हैं, इसकेलिए शुक्रिया|
    शुभ कामनाएं!!!

    ReplyDelete
  51. हनुमान जैसी अनन्य भक्ति का यदि एक अंश भी किसी इंसान में आ जाए तो पूर्ण जीबन ही नहीं युगों युगों तक उसे मुक्ति मिल सकती है ... आपका विवेचन .. कथ्य और शिल्प भक्ति के सरोवर में गोते लगवाता है ...

    ReplyDelete
  52. ॐ के उच्चारण का महत्त्व बहुत जानकारी पूर्ण लगा ।
    लोग इस सत्संग का फायदा उठायें तो धार्मिक क्रांति आ सकती है ।

    ReplyDelete
  53. नहिं कलि करम न भगति बिबेकू, राम नाम अवलंबन एकू
    कालनेमि कलि कपट निधानू, नाम सुमति समरथ हनुमानू
    वाह राकेश जी अद्भुत व आनंददायी प्रस्तुति। मन व आत्मा दोनों पवित्र हो गयी। हार्जिक आभार।

    ReplyDelete
  54. बेहतरीन प्रस्तुतियां. आपके लेखो को पढ़ लेना ही पर्याप्त होगा. परमानंद की स्थिति बन जाती है. नमन.

    ReplyDelete
  55. यदि हृदय में मोह और अभिमान छोड़ प्रभु को धारण कर हनुमान जी की तरह प्रभु का भजन किया
    जाये तो कलि युग रुपी कपट की खान कालनेमि हमारा कुछ भी बिगाड नही सकता है.very nice.thanks n aabhar.

    ReplyDelete
  56. सदा की भांति शोधपूर्ण, गहन और गवेश्नात्मक प्रवृत्तियों को समाहित किये हुए, बार-बार पठन और मनन करने योग्य युगीन आवश्यकताओं की माँग के अनुरूप रचना और विषद विवेचन. आपके श्रम, सात्विक प्रवृत्ति और निश्छल अनुराग को प्रणाम. लेखनी को नमन. पवनसुत वीरवर हनुमत से प्रार्थना की आपकी लगन को इसी प्रकार सतत बनाये रखे. आपसे और भी उच्च और लोकमंगल के उत्कृष्ट कार्य कराएँ.

    ReplyDelete
  57. पोस्ट के साथ अलबेला खत्री जी की सीडी याद आ गई...देश को भ्रष्टाचार से हनुमंत ही बचा सकते हैं...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
  58. राकेश जी ,बहुत सुंदर प्रस्तुती . मुझे याद है बचपन में हम जो हनुमान चालीसा ,आरती गाते थे , वो
    आज तक कंठस्थ है | हालाँकि आज कल जीवन की आपाधापी में पूजा पाठ के लिए ज्यादा वक़्त नहीं
    निकाल पा रहा , मगर हनुमान चालीसा अक्सर गुनगुनाता रहता हूँ |
    एक दोहा जो में अक्सर गुनगुनाता हूँ ;
    "लाल देह लाली लसे अरु धरी लाल लंगूर
    ब्रज देह दानव दलन जय जय कपिसुर "

    विस्तृत जानकारी के लिए धन्यवाद .

    ReplyDelete
  59. सार्थक चिंतन के लिये बधाई !
    आभार आपका .........

    ReplyDelete
  60. 'कलियुग में न कर्म है, न भक्ति है और न ज्ञान ही है.केवल रामनाम ही एक आधार है.कपट की खान
    कलियुग रुपी कालनेमि को मारने के लिए 'रामनाम' ही बुद्धिमान और समर्थ श्रीहनुमानजी हैं.'..ekdam sachi baat kahi gayee hai..
    Bahut sundar aadhytmik sarthak chitran prastuti ke liye aabhar!

    ReplyDelete
  61. बहुत खूबसूरती के साथ आपने हनुमान जी के बारे में हर एक शब्द लिखा है! सार्थक चिंतन एवं ज्ञानवर्धक प्रस्तुती ! मन को बड़ी शांति मिली आपका पोस्ट पढ़कर! जय बजरंग बलि ! हनुमान जी का आशीर्वाद सदा हम सब पर बना रहे!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com
    http://khanamasala.blogspot.com

    ReplyDelete
  62. जब हम प्राथमिक विद्यालय में थे तब नित्य हनुमान चालीसा और सुंदरकाण्ड का पाठ किया करते थे।
    हनुमान चालीसा आज भी याद है।
    भक्तिमय आलेख के लिए आपका आभार।

    ReplyDelete
  63. आदरणीय श्रीराजेशकुमारजी,

    पहले तो आपका बहुत धन्यवाद,जो आपने मेरे लिए चिंता जताई ।

    मैं कुछ दिनों से पीठ के दर्द से परेशान था,इसीलिए नया न लिख़ पाया, आज इसी `दर्द` को लेकर एक गीत पोस्ट किया है,शायद आपके मने को भा जाये..!!

    अनेकानेक शुक्रिया के साथ, आप का परिचय मेरा परम सौभाग्य समझते हुए, आपके स्वास्थ्य एवं कलम के चमत्कार प्रति शुभ भाव प्रकट करते हुए आपको प्रणाम ।

    मार्कण्ड दवे ।

    ReplyDelete
  64. मनन करने योग्य सार्थक और ज्ञानवर्धक भी. राकेश जी यूँ ही आप हम सभी इस ज्ञान गंगा का प्रसाद देते रहें.

    ReplyDelete
  65. सार्थक ज्ञानवर्धक आलेख ......आभार.

    ReplyDelete
  66. जय श्री राम !
    जय बजरंग बली!
    प्रभात बेला में भक्तिभाव से भरा ,ज्ञानपरक लेख पढ़्कर मन आनंदित हो गया। साधुवाद !

    ReplyDelete
  67. बहुत संदर प्स्तुति । मेरे नए पोस्ट " डॉ.ध्रमवीर भारती" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  68. aapka lekh Hanuman leela ka dono bhaag jivan mein aadhyaatm ke pravesh aur jan-chetna ki jaagriti mein sahayak hai. vishleshanaatmak aalkeh ke liye aabhar.

    ReplyDelete
  69. ओम की महिमा का सार्थक विवेचन ………बेहद वृहद व्याख्या

    ReplyDelete
  70. कवन सो काज कठिन जग माहीं

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति मान्यवर 1
    साधुवाद.

    ReplyDelete
  71. जय हनुमान....सार्थक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  72. समस्त अनिश्चिंतता,भय संदेह ,असुरक्षा का कारण 'मोह' अर्थात अज्ञान है,अज्ञान के साथ अभिमान
    अर्थात यह मानना कि मुझे किसी आश्रय की आवश्यकता नही है अत्यंत शूलप्रद और कष्टदायी होता है.

    Rakesh ji this is so truly said . Ego is the basic reason behind each and every sort of hurt . Meaningful and enlightening . Thanks .

    ReplyDelete
  73. सार्थक प्रस्तुति |
    आशा

    ReplyDelete
  74. सच में कलियुग हमारी सोच,कर्म और विचारों का ही प्रतिरूप है. सदैव की तरह बहुत सारगर्भित और ज्ञानप्रद प्रस्तुति..आभार

    ReplyDelete
  75. बहुत सुंदर प्रस्तुति,सार गर्वित अच्छी पोस्ट
    ..
    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    ReplyDelete
  76. भावमयी ज्ञानवर्धक प्रस्तुति

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें



    vikram7: कैसा,यह गणतंत्र हमारा.........

    ReplyDelete
  77. aadernkiya bhaisaheb....bahut dino ke baad blog par aana hua...lekin is lame samyantraal kee suruaat hanumaan ji ke sath sath om ke bishay me itni gahnata ke sath jaane ke sath hui..aapka blog hamesha chintan ke liye prerit karta hai....iswar ne kabhi mauka diya to aapse mulakat jarur hogi..aap hanumaat leela per abhi aaur likhte rahein..sadar badhayee aaur sadar pranam ke sath

    ReplyDelete
  78. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  79. आदरणीय गुरूजी नमस्ते ! मै बचपन में हनुमान जी का बहुत भक्त था | हनुमान चालीसा पूरा कंठस्थ था | जिस समय स्कुल की परीक्षा का परिणाम निकलना होता था तो उस समय हनुमान जी की बहुत याद आती थी तथा मै हनुमान जी से वादा करता था की यदि वे मुझे पास कर देंगे तो मै उन्हें एक किलो लड्डू चढाऊंगा | आज सोचता हूँ तो लगता है की कितना हास्यास्पद था वो विचार .......वाह भइये तुने तो भगवान को भी नहीं छोड़ा ....भगवान को भी घूस !!! उस उम्र में सपने में अक्सर भुत प्रेत मेरे सपने में आकर मुझे बहुत डराते थे | ये ऐसे दुष्ट थे की हनुमान चालीसा पढ़ने के बाद भी नहीं भागते थे |
    ये तो भला हो महर्षि दयानंद जी का जिनकी पुस्तक सत्यार्थ प्रकाश पढ़ने को मिला जिसे पढ़ कर दिल को मजबूती मिली तथा मन के सारे भ्रम दूर हो गए .......उसी तरह आप भी एक अच्छा कार्य कर रहे हैं ....रुढिवादी शब्दों के जाल से निकाल के इन्हें एक सम्यक अर्थ प्रदान कर रहे हैं तथा आज के हालात में ये जरुरी भी है | हनुमान शब्द से सदैव हमारे मन में एक ही आकृति आती है पूंछ युक्त एक ऐसा इंसान जो की बन्दर की आकृति वाला है .....| किन्तु यदि हम रामायण पढ़ के चिंतन करें तो यह स्पष्ट हो जाता है की यह एक काल्पनिक व्यक्तित्व है | हनुमान जी जैसे शुर वीर, स्वामी भक्त तथा चारों वेद के विद्वान को बन्दर का स्वरूप कैसे कहा गया ?? ये बात समझ के बाहर है ..........

    ReplyDelete
    Replies
    1. Madan bhai,

      Bahut bahut dhanyvaad aapka apna anubhav aur najaria prakat karne ke liye.

      vaastav men bahut si Gyan-vigyan ki baaten prateekaataatmak roop se batlaai gayin hain,un prateekon ko sahi prakar se humen samjhne
      ki koshish karni chaahiye.

      Yadi koi nakshe (map} ko sahi samjhne ka prayaas karega aur naksha sahi hoga to vah nakshe ki madad se gantvy sthaan par jaroor pahunch jaayega.Naksha yadi sahi architect dawara samajh-boojh kar pramaanik banaya gaya hoga to usmen humen shraddha vishvas karna hi padega.

      Delete
  80. गणतंत्र दिवस की
    बहुत बहुत शुभकामनाएँ.बहुत सुन्दर,व्याख्या

    ReplyDelete
  81. Der se aane ke liye mafi chahungi Rakesh ji.........
    basant panchami ki hardik shubhkamnayen........

    ReplyDelete
  82. भैया - आपकी अगली पोस्ट का इंतज़ार है |

    वैसे - की हुई टिप्पणियां गायब हो जाती हैं अक्सर - फिर भी i will try - वसंतोत्सव की शुभकामनाएं | :)

    ReplyDelete
  83. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  84. आदरणीय राकेश भाईजी, एक तो आप कंजूस हैं मुझसे आपका नम्बर गुम हो गया और आप कभी फ़ोन नही करते। मै भी तो नाराज़ हो सकती हूँ भई? इस कलयुग में आप जैसे राम भक्त गिने चुने लोग ही हैं। आप पर ईश कृपा हमेशा बनी रहे और हमें भी थोड़ा-थोड़ा इस भक्ति का प्रसाद मिलता रहे बस इश्वर से यही प्रार्थना है।
    सादर
    शानू

    ReplyDelete
  85. सुनीता शानू has left a new comment on your post "हनुमान लीला - भाग ३":

    Sunita Shanu ji ki mail dwara preshit tippani ka nimn saaransh hai:-

    आदरणीय राकेश भाईजी, ..... इस कलयुग में आप जैसे राम भक्त गिने चुने लोग ही हैं। आप पर ईश कृपा हमेशा बनी रहे और हमें भी थोड़ा-थोड़ा इस भक्ति का प्रसाद मिलता रहे बस इश्वर से यही प्रार्थना है।
    सादर
    शानू



    Posted by सुनीता शानू to मनसा वाचा कर्मणा at January 29, 2012 2:51 PM

    ReplyDelete
  86. Very insightful.. Padhke ek alag anoobhooti ka ehsaas ho raha hai.. Apki post me chintan karne ke liye bahut kuch hai. Is vishay ko vistar me itni khoobsurti se prastut karne ke liye aneko aabhar apka. Agli post ka intezaar rahega...

    ReplyDelete
  87. यदि हृदय में मोह और अभिमान छोड़ प्रभु को धारण कर हनुमान जी की तरह प्रभु का भजन किया
    जाये तो कलि युग रुपी कपट की खान कालनेमि हमारा कुछ भी बिगाड नही सकता है.

    लेकिन लोग मोह के चलते तो प्रभु के चरणों में आटे हिन् ..उनका क्या भला होगा .. सार्थक पोस्ट

    ReplyDelete
  88. रोचक, मनोरंजक, सराहनीय एवं अद्भुत प्रस्तुति......
    क्या यही गणतंत्र है

    ReplyDelete
  89. इस भाग को पढकर सिर्फ़ इतना ही कहना है फ़िलहाल राकेश भाई कि , पहले के दो भागों को भी पढता हूं पहले ...कमाल का कार्य कर रहे हैं आप । आपको नमन

    ReplyDelete
  90. बहुत सरल शब्दों में सारगर्भित व्याख्या ! अति उत्तम ज्ञानवर्धक भक्तिमय लेख । आभार !

    ReplyDelete
  91. बहुत सुंदर सारगर्भित प्रस्तुति अच्छी लगी.,जय बजरंगबली ....
    welcome to new post --काव्यान्जलि--हमको भी तडपाओगे....

    ReplyDelete
  92. There was a rich merchant who had 4 wives. He loved the 4th wife the most and adorned her with rich robes and treated her to delicacies. He took great care of her and gave her nothing but the best.

    He also loved the 3rd wife very much. He's very proud of her and always wanted to show off her to his friends. However, the merchant is always in great fear that she might run away with some other men.

    He too, loved his 2nd wife. She is a very considerate person, always patient and in fact is the merchant's confidante. Whenever the merchant faced some problems, he always turned to his 2nd wife and she would always help him out and tide him through difficult times.

    Now, the merchant's 1st wife is a very loyal partner and has made great contributions in maintaining his wealth and business as well as taking care of the household. However, the merchant did not love the first wife and although she loved him deeply, he hardly took notice of her.

    One day, the merchant fell ill. Before long, he knew that he was going to die soon. He thought of his luxurious life and told himself, "Now I have 4 wives with me. But when I die, I'll be alone. How lonely I'll be!"

    Thus, he asked the 4th wife, "I loved you most, endowed you with the finest clothing and showered great care over you. Now that I'm dying, will you follow me and keep me company?" "No way!" replied the 4th wife and she walked away without another word.

    The answer cut like a sharp knife right into the merchant's heart. The sad merchant then asked the 3rd wife, "I have loved you so much for all my life. Now that I'm dying, will you follow me and keep me company?" "No!" replied the 3rd wife. "Life is so good over here! I'm going to remarry when you die!" The merchant's heart sank and turned cold.

    He then asked the 2nd wife, "I always turned to you for help and you've always helped me out. Now I need your help again. When I die, will you follow me and keep me company?" "I'm sorry, I can't help you out this time!" replied the 2nd wife. "At the very most, I can only send you to your grave." The answer came like a bolt of thunder and the merchant was devastated.

    Then a voice called out : "I'll leave with you. I'll follow you no matter where you go." The merchant looked up and there was his first wife. She was so skinny, almost like she suffered from malnutrition. Greatly grieved, the merchant said, "I should have taken much better care of you while I could have !"

    Actually, we all have 4 wives in our lives

    a. The 4th wife is our body. No matter how much time and effort we lavish in making it look good, it'll leave us when we die.

    b. Our 3rd wife ? Our possessions, status and wealth. When we die, they all go to others.

    c. The 2nd wife is our family and friends. No matter how close they had been there for us when we're alive, the furthest they can stay by us is up to the grave.

    d. The 1st wife is in fact our soul, often neglected in our pursuit of material, wealth and sensual pleasure.

    ReplyDelete
    Replies
    1. इतनी सुन्दर टिपण्णी फिर भी आप बेनामी?

      क्या आप शिल्पा बहिन तो नहीं ?

      शिक्षाप्रद रोचक टिपण्णी के लिए आपका आभार.

      Delete
    2. @ क्या आप शिल्पा बहिन तो नहीं ?
      न - नहीं राकेश भैया - यह मैं नहीं हूँ | हाँ - यह कहानी मैंने शेयर की thee - परन्तु यह टिपण्णी मेरी नहीं है :) |

      @ बेनामी जी - आपकी टिपण्णी बहुत ही शिक्षाप्रद है - बहुत सुरुचिपूर्ण कहानी है, बड़ी सारगर्भित | आभार | :)

      Delete
  93. मेरे सभी ब्लोगों पर आपका स्वागत है! काफी दिनों के बाद मैंने सभी ब्लॉग पर नया पोस्ट किया है! आपको जब वक़्त मिले ज़रूर आइयेगा !

    ReplyDelete
  94. there always so much to learn from your posts :)
    enjoyed n learned !!

    ReplyDelete
  95. यदि हृदय में मोह और अभिमान छोड़ प्रभु को धारण कर हनुमान जी की तरह प्रभु का भजन किया
    जाये तो कलि युग रुपी कपट की खान कालनेमि हमारा कुछ भी बिगाड नही सकता है.

    सार्थक कथन!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्या आपकी उत्कृष्ट-प्रस्तुति

      शुक्रवारीय चर्चामंच

      की कुंडली में लिपटी पड़ी है ??

      charchamanch.blogspot.com

      Delete
    2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज charchamanch.blogspot.com par है |

      Delete
  96. बेहतरीन अनुपम प्रस्तुतीकरण..

    MY NEW POST ...40,वीं वैवाहिक वर्षगाँठ-पर...

    ReplyDelete
  97. बहुत अच्छी ज्ञानवर्धक प्रस्तुति
    बेहतरीन पोस्ट ...

    ReplyDelete
  98. आदरणीय भाई जी,
    एक शब्द में सारी बात कहना चाहूँगा --

    'वाह !'

    ReplyDelete
  99. आदरणीय राकेश जी..प्रणाम स्वीकार करें
    ॐ की महत्ता का वैज्ञानिक वर्णन अति सुन्दर एवं प्रमाणिक है.
    हनुमान जी की लीला का जितना वर्णन करें कम ही है अतः अगली पोस्ट भी इसपर मिले तो बहुत ही अच्छा रहेगा...
    आज सुबह ही रामचरित मानस सुन रहा था और आप ने हनुमान जी की महिमा का वर्णन भी सुना दिया

    हनुमान तेहि परसा कर पुनि किन्ह प्रणाम .
    राम काज कीन्हें बिना मोहि कहाँ विश्राम
    जय श्री राम

    ReplyDelete
  100. वाह!!!!!बहुत सुंदर प्रस्तुति

    नई रचना ...काव्यान्जलि ...: बोतल का दूध...

    ReplyDelete
  101. बहुत हि आध्यत्मिक और लाभकारी लेख...
    साधुवाद!

    ReplyDelete
  102. sir
    bahut dino baad aaj aapke post ko padh saki hun.bahut bahut hi achcha laga.
    vise bhi aap apni har post ko gahrai me duub kar hi likhte hain to usme padhne wala bhi dub jaaye ye aashchary ki baat nahi hai.ek -ek panktiyan seedhe hi man me utarti si chali jaati hain.mujhe to lagta hai ki jitna sundar kand padh kar nahi yaad ho paya usse kahin jyaada aapki post
    padh kar aasaani se samajh me aa jata hai aur yhi aapke lekhan ki khoobi hai.
    mere blog par nirantar mera housla banaye rakhne ke liye aapko hardik
    dhanyvaad-----
    poonam

    ReplyDelete
  103. दुनिया में एक आम आदमी की तरह मोह रुपी नाव में बैठ जीवन की नदिया पार कर रहे थे और इस नदिया में उलझ कर रह गए .. अत्याधिक कार्यव्यवस्ता की वजह से नेट पर आना नही हो पा रहा है..आई हूँ तो यह सुन्दर पोस्ट पड़ी ..जिसमे हनुमान जी का वर्णन, ॐ के बारे में लिखा है.. ॐ तो इस ब्रहमांड की उत्पत्ति का कारक है .. जब कुछ नहीं था सिर्फ शून्य था चारों दिशा तो तो सिर्फ ओम नाद था ..और सृष्टि का सृजन इस के अनाहत नाद से हुवा..big bang ॐ के स्पंदन की प्रतिध्वनि से हूवा ...ब्रह्माण्ड को सक्रिय रूप मिला ... ओम में बहुत ताकत है... यह विचलित मन को शन्ति प्रदान करता है.. शरीर को स्वस्थ खिला रूप प्रदान करता है.. जैसा आपने बताया ...ओम परमब्रह्मा परमात्मा का आदि नाम है.. सच में इसक उच्चरण सकून देता है ...प्रभु हनुमान जी के बारे में पकी यह पोस्ट बहुत अच्छी लगी...हम में प्रभु भयमुक्त करे और कालनेमि से बचाएं .. सादर ..

    ReplyDelete
  104. दुनियां में एक आम आदमी की तरह मोह रुपी नाव में बैठ जीवन की नदिया पार कर रहे थे और इस नदिया में उलझ कर रह गए .. अत्याधिक कार्यव्यवस्ता की वजह से नेट पर आना नही हो पा रहा है..आई हूँ तो यह सुन्दर पोस्ट पढ़ी ..जिसमे हनुमान जी का वर्णन, ॐ के बारे में लिखा है.. ॐ तो इस ब्रहमांड की उत्पत्ति का कारक है .. जब कुछ नहीं था सिर्फ शून्य था चारों दिशा तो तो सिर्फ ओम नाद था ..और सृष्टि का सृजन इस के अनाहत नाद से हुवा..big bang ॐ के स्पंदन की प्रतिध्वनि से हूवा ...ब्रह्माण्ड को सक्रिय रूप मिला ... ओम में बहुत ताकत है... यह विचलित मन को शान्ति प्रदान करता है.. शरीर को स्वस्थ खिला रूप प्रदान करता है.. जैसा आपने बताया ...ओम परमब्रह्मा परमात्मा का आदि नाम है.. सच में इसका उच्चारण सकून देता है ...प्रभु हनुमान जी के बारे में आपकी यह पोस्ट बहुत अच्छी लगी...हमें प्रभु भयमुक्त करे और कालनेमि से बचाएं .. सादर ..

    ReplyDelete
  105. hanuman ji ki lila unki bhakti ke bare me sunder barnan hai .aapeki har post ko padh kar man pavitr ho jata hai aapka jitna dhnyavad kiya jaye kam hai
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  106. ॐ हनुमते नमः!
    नाम जप ही इस युग में मुक्ति का आधार है...
    इस भक्ति रुपी पून्य सलिला भगीरथी में स्नान कर मन आत्मा पवित्र हो गयी!!!
    आपकी लेखनी यूँ ही दिव्य दर्शन कराती रहे हमें सदा सर्वदा!
    सादर!!!

    हनुमान जी की लीला का बखान चलता रहे.... ज्ञानियों में अग्रगण्य भक्त हृदय प्रभु हनुमान की जय!!!

    ReplyDelete
  107. हनुमान जी की लीला तो अपरम्पार है... अआपकी सभी पोस्ट बहुत अच्छी लगी .

    बड़ा गड़बड़झाला है

    ReplyDelete
  108. राकेश जी आप ने मेरा कुशल क्षेम जानना चाहा । मै एकदम ठीक हूं पूरे एक महीने का प्रवास और फिर पाहुनदारी में थोडा सा व्यस्त हो गई थी इसीसे लिखना पढना बंद सा था ।
    हमारे ये सारे सांसारिक व्यवधान हनुमान स्वरूप ऊँ के मंत्र से वश में हो जाते है । आपकी ये हनुमान लीला कितनों का मार्गदर्शन कर रही है आप शायद नही जानते । आपके इन अध्यात्म से ओतप्रोत लेखों से आप ब्लॉग जगत के मनोमालिन्य को भी विदीर्ण कर सकेंगे ऐसी आशा है ।

    ReplyDelete
  109. जी ....
    अब से ॐ का जाप शुरू .....
    वैसे पहले भी कभी कभार किया करती थी ......
    पर नियति को कोई टाल नहीं सकता ....
    आज युवराज (क्रिकेटर)को कैंसर का सुन कर तो यही कहा जा सकता है ..
    क्या खिलाड़ियों के शरीर में स्फूर्ति कम होती है जो इस तरह की गंभीर बिमारियों का शिकार हो जाते हैं ....?

    ReplyDelete
  110. सुंदर प्रस्तुति........पोस्ट बहुत अच्छी लगी!

    ReplyDelete
  111. सुन्दर और उच्च विचारों का संगम एवं पवित्रता का आभास आपके ब्लॉग पर मिल रहा है!....शुभ कामनाएं!

    ReplyDelete
  112. bahut hi sundar adhyaatmik aalekh ...

    ReplyDelete
  113. सुन्दर..सुन्दर.....कलियुग केवल नाम अधारा....
    ----त्रिगुण सदैव मानव-मन में रहते हैं...गुणावगुण..न्यूनता-आधिक्य कारण वे मानव मन को सतयुग, त्रेता, द्वापर कलियुग में लेजाते रहते हैं...अति-सुन्दर तात्विक वर्णन....
    ---यह राकेश जी की ही महिमा है...वास्तव में तो हनुमान जी...रामजी की....कि अनाम /अनामिका जी ने भी इतनी सुन्दर तात्विक कथा वर्णन की.....वे बधाई के पात्र हैं...और हम सब आनन्द के...

    ReplyDelete
  114. saadar nmskaar,aap gau seva se juden hai jaankar khushi huee kripya is baaren me vistaar se btaayen,taaki aap ke baare me padh kar aur logon ko bhi prerna mile

    gauvanshrakshamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  115. rakeshji,aapke blog par aana har bar sarthak ho jata hai......kalyug ki paribhasha saral shabdo me bata di aapne aur sri hanumaanji ke baare me itni rochak jankari ke liye dhanywaad......hanumaan ke aage hum sab natmastak hai

    ReplyDelete
  116. behatar prastuti ke liye abhar Kailash ji.

    ReplyDelete
  117. हमारे हृदय में जब तमोगुण अर्थात आलस्य, अज्ञान, प्रमाद, हिंसा आदि बहुत बढ़ जाये ,रजोगुण अर्थात
    क्रियाशीलता कम हो जाये,और सतोगुण यानि ज्ञान व विवेक का तो मानो लोप ही हो जाये, चहुँ ओर विरोधी
    वृत्तियों का ही हृदय में वास हो, सब तरफ अप्रसन्नता और विरोध हो, तो कह सकते हैं हम उस समय
    'घोर 'कलियुग' में ही जी रहे है.
    bahut sahi kaha ,yadi vikaro ko door karle to sambhal sakte hai ,jai bajarangbali aap hi uddhar karo is yug ka jagat ka .subhprabhat rakesh ji .

    ReplyDelete
  118. प्रियवर ,
    कृष्णाजी से अभी अभी, अपने परमप्रिय श्री हनुमानजी पर आपका यह सुंदर ज्ञानवर्धक आलेख सुना ! नयी नयी बातें जानीं! उनपर श्रद्धा और बढी !
    राकेशजी लगे रहिये ! कलियुग में मानवता के उद्धार के सरलतम साधन- " सिमरन -भजन कीर्तन " के प्रचाररत , निगुरुओं के सद्गुरु- "श्रीमहावीर हनुमानजी" के विषय में जितना लिखें कम् होगा ! ऐसे ही लिखते रहें ! आपपर श्री राम कृपा सदा सर्वदा ऐसी ही बनी रहे !-
    विश्वम्भर श्रीवास्तव "भोला" [एवं] श्रीमती कृष्णा

    ReplyDelete
  119. Great post--bahut sundar charcha.. Jai shri Hanuman.

    ReplyDelete
  120. आपने बहुत तार्किक तरीके से व्याख्या की है ,
    साधुवाद

    बबूल का गोंद काफ़ी सुन्दर सा पारदर्शिता लिए हुए होता है.न मिले तो हमें आदेश कीजियेगा.

    ReplyDelete
  121. बहुत अच्छी प्रस्तुति,.

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    ReplyDelete
  122. अत्याधिक क्षमाप्रार्थी..यह पोस्ट पढ़ी भी थी एयरपोर्ट पर ही कहीं किन्तु जल्दबाजी में कमेंट न दे पाया था..शायद सोचा होगा कि गन्तव्य पर पहुँच कर लूँगा..उम्र का असर देखिये..भूल गये. :)

    तर्कसंगत है संपूर्ण व्याख्या...ॐ का उच्चारण नित कर्मों में सम्मलित किया हुआ है.

    ReplyDelete
  123. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,नये पोस्ट का बेकरारी से इन्तजार,.....में

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    ReplyDelete
  124. राकेशजी धार्मिक आस्था को बढाने वाले प्रस्तुति। आभार!

    ReplyDelete