Followers

Sunday, April 27, 2014

श्रीमद्भगवद्गीता-चिंतन - १

ऊँ ...........................    ऊँ ...........................  ऊँ ...........................     

ऊँ   सहनाववतु     l    सहनौभुनक्तु
सहवीर्यं करवावहै   l    तेजस्विनावधीतमस्तु मा  विद्धिषावहै  l l

अखण्डमंडलाकारं  व्याप्तं येन चराचरम्  l
तत्पदं दर्शितं  येन  तस्मै श्री  गुरवे  नम:  l l

ऊँ  पार्थाय  प्रतिबोधितां  भगवता   नारायणेन  स्वयं
व्यासेन-ग्रथितां पुराण   मुनिना मध्ये महाभारतम्  l
अद्धैतामृतवर्षिणीम्     भगवतीमष्टादशाध्यायिनीम् 
अम्ब  त्वामनुसंदधामि  भगवद्गीते    भवद्वेषनीम्   l l

वसुदेवसुतं   देवं          कंसचाणूर   मर्द्नम्  l
देवकी परमानन्दम् कृष्णं वन्दे  जगत्गुरुम्  l l

हमारे यहाँ प्रत्येक मंगलवार को सांय ७ बजे से ८ बजे के मध्य उपरोक्त मंत्रोच्चारण के साथ व  
३ मिनट तक ईश्वर ध्यान उपरान्त गीता गोष्ठी का शुभारम्भ होता है.

सर्वप्रथम ईश्वर क्या है इसका चिंतन हमें करना चाहिये.
हम सभी जीवन में आनन्द चाहते हैं. दुःख के  चिंतन  से आनन्द की अनुभूति नही हो सकती है.

आनन्द की अनुभूति के लिए आनन्द का चिंतन करना परमावश्यक है.
आनन्द  में भी आनन्द की सर्वश्रेष्ठ श्रेणी का ही चिंतन होना चाहिये.तभी हमारा चिंतन सार्थक हो सकता है.
आनन्द की सर्वश्रेष्ठ श्रेणी में ऐसा आनन्द नही हो सकता जो समय से बाधित हो,अल्पकालीन हो.,
जिसका समय के साथ कभी अंत होता हो या जो हमारी  चेतना को कम  करनेवाला हो.

विषयों से प्राप्त आनन्द अल्पकालीन तो  हो सकता है,परन्तु सर्वश्रेष्ठ श्रेणी का नही.
विषयों से प्राप्त  आनन्द वास्तव में चेतना को  विलुप्त करता है और  अंततः दुःख  प्रदान  कराने वाला होता है,जो मृगमरीचिका की तरह जीवनभर  भटकाता ही रहता  है.

आनन्द की सर्वश्रेष्ठ श्रेणी  का आनन्द केवल  'सत् - चित् - आनन्द' ही हो सकता है.जिसके आश्रय
में हम सदा आनन्दित रह सकते हैं.

सत्   यानि हमेशा हमेशा (for ever),  चित्  यानि चेतनायुक्त अथवा चेतनापूर्ण- जिससे निरंतर चेतना 
मिलती हो व हमारी चेतना का विकास होता हो . ऐसे सत्  चित् युक्त आनन्द को  'सत्- चित् -आनन्द' या सच्चिदानन्द कहते है.

हमारे  शास्त्रों में सच्चिदानन्द को ही ईश्वर या ब्रह्म नाम से बताया गया है.

जिस प्रकार से विभिन्न विषयों की जानकारी के लिए उन उन विषय पर प्रमाणिक ग्रंथों का 
अध्ययन आवश्यक है. जैसे भौतिक विज्ञान की जानकारी के लिए भौतिक शास्त्र है  ,गणित की 
जानकारी के लिए गणित शास्त्र  है  ,इसी प्रकार 'सत् - चित् - आनन्द'  की जानकारी के लिए 
श्रीमद्भगवद्गीता  भी एक  शास्त्र है.

श्रीमद्भगवद्गीता 'ब्रह्म विद्या' को जनाने वाला ग्रन्थ है.यह ब्रह्म  यानि सत्- चित् -आनन्द के 
ज्ञान कराने के साथ साथ सत्--चित्-आनन्द  से हमें जोड़ती भी  है.इसीलिए श्रीमद्भगवद्गीता
को 'योग शास्त्र' भी कहते हैं.  श्रीमद्भगवद्गीताके  ज्ञानामृत रुपी दुग्ध पान से हमारा अंत:करण निरंतर पुष्ट होता है   और अंततः जो हमें अद्द्वैत का  बोध करादे  यानि हममें  व सच्चिदानंद में कोई भेद ही न रह जाये ऐसा योग करा दे  ,उसको यदि हम 'अम्ब' या 'माँ' पुकारें तो कोई अतिशयोक्ति नही होगी.भगवद्गीता में कुल १८ अध्याय है. प्रत्येक अध्याय एक 'योग' के रूप में वर्णित है.इसलिए  भवद्वेष यानि negativity के निवारण के लिए और positive अंत:करण के  विकास  के लिए यानि सच्चिदानन्द से योग के लिए श्रीमद्भगवद्गीता के   १८ (अष्टा दश ) अध्यायों का  निरंतर अनुसंधान करना ही चाहिये .

अत : उपरोक्त मंत्रोच्चारण में निम्नलिखित पंक्तियों का  स्मरण करते हुए हम सभी मिल कर श्रीमद्भगवद्गीता का अध्ययन,मनन और चिंतन करने का पुनः पुनःप्रयास करते रहेंगें.

अद्धैतामृतवर्षिणीम्     भगवतीमष्टादशाध्यायिनीम् 
अम्ब  त्वामनुसंदधामि  भगवद्गीते    भवद्वेषनीम्   l l

39 comments:

  1. bahut badhiya nigativity ko door karna jaruri hai .....

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चिंतन ....... अर्थपूर्ण जीवन दर्शन को सहेजे

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (28-04-2014) को "मुस्कुराती मदिर मन में मेंहदी" (चर्चा मंच-1596) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. अति सार्थक पोस्ट..अगली कड़ियों का इंतजार रहेगा..

    ReplyDelete
  5. सुन्दर सार्थक जीवन चिंतन ...

    ReplyDelete
  6. सुन्दर जीवन दर्शन ...

    ReplyDelete
  7. सुन्दर चिंतन सम्पूर्ण समर्पण ..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  8. सुन्दर सार्थक चिंतन ...आभार

    ReplyDelete
  9. हमेशा की तरह बेहतरीन चिंतन जो हृदय के द्वार खोल दे बधाई राकेश जी

    ReplyDelete
  10. जीवन दर्शन, आध्यात्म और सार्थक चिंतन
    सुन्दर प्रस्तुति
    सादर

    आग्रह है----
    और एक दिन

    ReplyDelete
  11. जो सत्य है जो एकमेव ज्ञान है और जो आनंद है वही ब्रम्ह या ईश्वर है। बहुत सुंदर विवेचना। आपकी वापसी पर स्वागत है।

    ReplyDelete
  12. आनन्द की सर्वश्रेष्ठ श्रेणी का आनन्द केवल 'सत् - चित् - आनन्द' ही हो सकता है.जिसके आश्रय
    में हम सदा आनन्दित रह सकते हैं....एकदम सही..
    ..बहुत सुन्दर आध्यात्मिक चिन्तन प्रस्तुति... . आभार

    ReplyDelete
  13. आपके प्रयास से सभी लाभान्वित होते रहेंगे.. शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर, आभार!

    ReplyDelete
  15. As always, your posts give a lot to ponder about. Thank you for another valuable thought, Rakeshji, please keep writing.

    ReplyDelete
  16. A beautiful and divine way to spend the evening. Enchanting!

    Welcome back, Sir.

    ReplyDelete
  17. आनन्द की अनुभूति के लिए आनन्द का चिंतन करना परमावश्यक है.
    आनन्द में भी आनन्द की सर्वश्रेष्ठ श्रेणी का ही चिंतन होना चाहिये.तभी हमारा चिंतन सार्थक हो सकता है.

    Naman. bahut achha likha hai

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  18. ऊँ ईश्वर का प्यारा नाम है
    कृपया, मंत्रोचारण का हिंदी अर्थ व भावार्थ भी बताईयेगा.

    ReplyDelete
  19. man ko bahut shanti milti hai ,tn ved mantro ke dhyan se ,shubh prabhat ,bahut dino me aana hua ,dhanyawaad.

    ReplyDelete
  20. हे अर्जुन तू कर्म किए जा फल की इच्छा कभी न कर ।
    शाकुन्तलम्

    ReplyDelete
  21. गीता के चिंतन में जीवन का सत्य निहित है. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  22. आपकी टिप्पणी के लिए आपका आभार . बड़े दिनों बाद आपको आजकल हमारे ब्लॉग की याद आने लगी है :)

    कई बार आपकी सेहत के बारे में पूछती हुई टिप्पणियां की आपके इस ब्लॉग पर यहाँ - कोई उत्तर नहीं . न मेल पर कई बार पूछने पर मेल का कोई उत्तर . अब अचानक आप लौट आये हैं , जैसे कोई ब्रेक आया ही न हो . चलिए बढ़िया है - ब्लॉग जगत में वेलकम बेक

    ReplyDelete
  23. आप मेरे ब्लॉग पर आये अनुग्रहित किया सदैव स्नेह बनाये रखें। इस चिंतन विवेचन की प्रतीक्षा रहेगी।

    ReplyDelete
  24. आपके अगले लेक की प्रतीक्षा है।

    ReplyDelete
  25. मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
    Health World in Hindi

    ReplyDelete
  26. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. Railway Jobs.

    ReplyDelete
  27. bahut hi prabhavchodti hai man par aapki post ----hardik badhai
    bahut dino baad vaapas blog par lout rahi hun.housala banaye rakhiyega mera---dhanyvaad

    ReplyDelete
  28. Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
    Print on Demand in India

    ReplyDelete
  29. Good article with excellent idea! I appreciate your post.Regards Sarkari Result

    ReplyDelete
  30. आदरणीय भाईसाब एक मुद्दत बाद ब्लॉग से जुड़ना हुआ और आपके ब्लॉग तक भी ..आपके आध्यत्मिक लेखों का जवाब नहीं होता है इस उत्कृष्ट लेख के लिए ह्रदय से बधाई स्वीकार करें सादर

    ReplyDelete
  31. आदरणीय भाईसाब एक मुद्दत बाद ब्लॉग से जुड़ना हुआ और आपके ब्लॉग तक भी ..आपके आध्यत्मिक लेखों का जवाब नहीं होता है इस उत्कृष्ट लेख के लिए ह्रदय से बधाई स्वीकार करें सादर

    ReplyDelete
  32. Aapke blog wapasi ki prateeksha hai

    ReplyDelete
  33. नमस्ते गुरु जी ,,बहुत सुंदर चिंतन

    ReplyDelete
  34. आशा है कि सब कुशल मंगल होगा । शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  35. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "भूली-बिसरी सी गलियाँ - 8 “ , मे आप के ब्लॉग को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete