Followers

Friday, February 11, 2011

मन ही मुक्ति का द्वार है

मन के स्पंदन वाणी के माध्यम से मुखरित होते हुए इस ब्लॉग जगत में मै  सर्वत्र देख पा रहा हूँ .कहीं आशा के उजाले  से  घनीभूत,  कहीं निराशा की रात्रि से ओतप्रोत , कहीं यथार्थ की कड़वाहट में भी हास्य रस  की फुहार से गुदगुदाते हुए, कहीं ज्ञान और विज्ञानं की अनुपम छठा बिखेरते हुए ज्ञानीजन के मानस से  उत्सर्जित.  शायद इसीलिए ही मुझे अपने ब्लॉग का नाम "मनसा वाचा कर्मणा'  रखना अब सार्थक लग रहा है. जब सभी  सुधिजन ब्लोगर्स मनरूपी भाव समुंदर में गोते लगा रहे है तो क्यूँ न मै भी उनके साथ इस बहाने कुछ गोते लगाने का आनंद ले लूँ.  मेरी पहली पोस्ट  'ब्लॉग जगत में मेरा पदार्पण'  और फिर दूसरी पोस्ट 'जीवन की सफलता अपराधबोध से मुक्ति' पर जो टिप्पणियां मुझे मिली और मिल रही है उससे भी मेरा उत्साह वर्धन हुआ है.  इसीलिए अब इस पोस्ट को लिखने का मै साहस कर पा रहा हूँ जो मेरे ब्लॉग 'मनसा वाचा कर्मणा' की मनसा के अनुरूप है.

कहते है  ' मन के हारे हार है, मन के जीते जीत. परमारथ को पाइए मन ही के परतीत '


यानि सफलता और परमार्थ को पाने का मनसा  यानि  मन एक सशक्त साधन है. मन दिखलाई तो नहीं पड़ता पर हम सब के पास है, ऐसा अनुभव हम सभी को है. परमारथ का मतलब जीवन के परम  अर्थ ' परमानन्द' से है.  ऐसा आनंद जो स्थाई हो जो किसी भी बाहरी वस्तु, व्यक्ति, परिस्थिति ,स्थान, या समय  पर निर्भर न करे  परमानन्द कहलाता  है.इस मन के द्वारा ही सुख और दुख का अनुभव किया जाता है. मन यदि अतिशय दुःख की स्थिति में है तो कह सकते है हम नरक में जी रहे है और यदि मन सुख का अनुभव कर रहा है तो स्वर्ग में.अब यदि ऐसे कोई लोक होते हो जहाँ स्वर्ग  या नरक अलग से होते हो तो वहां भी मन के बैगर वे सब  निरर्थक ही है.  अत: मन के बारे में जानना अति आवश्यक है.

भगवान कृष्ण गीता में मन की स्थिति इस प्रकार से बताते है :" इन्द्रियों को स्थूल शरीर से पर अर्थात शक्तिशाली कहते है और इन्द्रियों से भी पर  या शक्तिशाली मन है. मन से भी पर बुद्धि है और बुद्धि  से भी अत्यंत पर हमारी आत्मा है यानि हम खुद है. क्योंकि हम स्वयं  ही अपने स्थूल शरीर, मन और बुद्धि के मालिक है."(गीता अध्याय ३ श्लोक ४२)

उपरोक्त श्लोक के अनुसार मन की स्थिति शरीर और इन्द्रियों से ऊपर है. वास्तव में मन ही इन्द्रियों से सन्देश प्राप्त कर हमारा बाहरी जगत से  परिचय और   अनुभव कराता है और हमारी भावनाओ को भी  इन्द्रियों के माध्यम से प्रकट करता है.मन में असंख्य भाव समाहित है इसीलए इसको मानव को प्रकृति की ओर से दी गयी अनुपम भेट कह सकते है जो अति सूक्षम उपकरण (सोफ्ट वेयेर ) के रूप में है.

मन में ही भाव समुन्द्र लहरे मारता रहता है.जिसमे तरह तरह के भाव उदय होते रहते है और अस्त भी. यदि मन में आनंद और शांति के भाव उदय होते है तो हम आनंदित और शांत रहते  है और यदि दुःख और अशांति के तो हम तकलीफ में रहते है. अब चूँकि  बुद्धि की स्थिति मन के ऊपर है,जो प्रकृति द्वारा मानव को सोचने समझने की शक्ति के रूप में प्रदान की गयी है तो मन के भावो का नियंत्रण बुद्धि के द्वारा किया जा सकता है.परन्तु समस्या यह है कि मन अति चंचल है.इसको कैसे नियंत्रण में रखा जाये. इस बारे में भगवान कृष्ण गीता में कहते है "हे महाबाहु (अर्जुन) निस्संदेह मन अति चंचल है और कठिनता से वश में होने वाला  है. परन्तु हे कुन्तीपुत्र अर्जुन यह अभ्यास और वैराग्य से वश में होता है".(गीता अध्याय  ६ श्लोक स० ३५)

यानि बुद्धि की विचार शक्ति  के द्वारा  निरंतर सुविचारो के अभ्यास से इस चंचल मन में  भी सदभावो का उदय हो सकता है. वैराग्य का तात्पर्य यहाँ संसार से पलायन नहीं वरन उन कुविचारो को त्यागने से है जो मन को चंचल बनाते है.अत:   बुद्धि अर्थात विवेक और विचार की शक्ति के द्वारा यदि केवल आनंद  का ही चिंतन किया जाये और  कुविचारो का त्याग किया जाये  तो यह पक्का है कि मनरूपी भाव समुन्द्र में भी आनंद की लहरें अवश्य  उठने लगेंगी.

हमारे शास्त्रों में ईश्वर की धारणा "सत चित आनंद" के रूप में ही दरसाई गयी है. इसलिए आनंद का  चिंतन करते रहना ही हमारा वास्तविक धर्म और कर्तव्य  है. जब आनंद का चिंतन 'मनसा वाचा कर्मणा' के माध्यम से निरंतर   प्रकट होने लगेगा तो मन में भी  आनंद के हिलोरे स्थायी रूप से रह जाने वाली  है और हम मुक्ति का अनुभव कर सकते है. मुक्ति कहीं मरने के बाद मिलनेवाली है ऐसा केवल भ्रम मात्र ही है. अशांत मन से तो मुक्ति न इस जीवन में मिलनेवाली है और नाही मरने के बाद.  इन्द्रियों को ' गो ' भी  कहा गया है जिनको सही प्रकार से चराना मन का ही काम है . सैदेव शांत ओर आनंदमय मन ही गोपाल है जो इन्द्रियों को सही प्रकार से चरा सकता है. जिसका हमे निरंतर भजन करना चाहिए और ऐसा ही  मन है मुक्ति का द्वार.
तो  लगे रहो मुन्ना भाई   सत  के  चिंतन में .............."ईश्वर अल्लाह तेरो नाम, सबको सन्मति दे भगवान"

29 comments:

  1. गुरुवाणी कहती है
    "मन तू जोत सरूप है"
    ....आपने विश्लेषण करते हुए जो निष्कर्ष दिए है ...सही मायने में सही है ...मन मुक्ति का द्वार है ..और हम तन से ज्यादा, मन से जीते हैं ...आपका आभार इस सार्थक पोस्ट के लिए ....

    ReplyDelete
  2. @ >> Keval Ram ji,
    Bahut bahut shukria itni jaldi meri post padhne ke liye aur us per apne bahumulaya bhav prakat karne ke liye.Yadi "jot se jot jalate jaye" to manjil aur bhi aasan ho jayegi.

    ReplyDelete
  3. हमें यही प्रयास करना चाहिए की "इन्द्रियों का निग्रहण" कर सकें । यदि मन रुपी उभयेंद्रिय वश में रहेगी , तो बहुत से अनर्थों पर विराम लग सकता है ।

    ReplyDelete
  4. Thanks for this beautiful post !

    ReplyDelete
  5. @ >>Dr.Divya ji
    Bilkul theek kaha apne.Man ek ubhayendri hi hai.
    Jo prakriti ke saath kriya pratikrriya me lipt rehata hai.Geeta ke adhyaya 15 shloka 7 me lika hai"Mana shisthani-indryani prakirtisthani karshiti" yani man 6th indri hai jo pancho indriyon ke saath prakriti me aakirshit-pratiakirshit hota hai."aur yahi
    man hi pancho indriyon ka raja bhi hai*
    Thanks.

    ReplyDelete
  6. ज्ञान का व्यापार मनसा वाचा कर्मणा ही होता है, बहुत ही उपयुक्त शीर्षक।

    ReplyDelete
  7. मन ही तो है हर रोग की जड
    मन ही तो है वियोग की जड

    सब मन से ही है मगर मन को साधना पडता है तप की कसौटी पर तभी ये काबू मे आता है और तप है इंद्रियो का संयम जब एक बार हम ये धारणा कर लें तो मन को साधना दुष्कर नही रहता मगर उसके साथ निरन्तर चिन्तन बना रहना चाहिये नही तो विषय जब चाहे इसे फिर आकर्षित कर लेते हैं…………मन को मारा नही जा सकता सिर्फ़ साधा जा सकता है और उसके बाद भी निरन्तर साधन मे लगाये रखना पडेगा तभी काबू मे रहता है।

    ReplyDelete
  8. तोरा मन दर्पण कहलाए
    तोरा मन दर्पण कहलाए
    भले बुरे सारे कर्मों को
    देखे और दिखलाए.
    तोरा मन दर्पण कहलाए...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  9. सच कहा आपने आनंद एक मानसिक स्तिथि है... जिसे पाने के लिए अधिक प्रयास की जरूरत नहीं होती...सिर्फ अपना दृष्टिकोण बदलने की आवशयकता होती है...बस. अपने साथ और अपने आस पास होती घटनाओं को देखने की दृष्टि बदलें और परमानन्द को प्राप्त हो जाएँ...

    नीरज

    ReplyDelete
  10. @ >>Aadarniya Vandanaji,
    Aapka yeh kehna sahi hai ki man ko mara nahi ja
    sakta keval saadha ja sakta hai."Man hi hai aanand ka dhaam,jo nitya karm karen niskam",karat karat
    abhyaas ke jadmati hot sujan.
    @ > Khush deep Bhai,
    Yeh man darpan hi to hai jisme uth rahe bhav ko hum dekh bhi sakte hai aur dikhla bhi sakte hai.

    ReplyDelete
  11. अशांत मन से तो मुक्ति न इस जीवन में मिलनेवाली है और नाही मरने के बाद.

    आपने इस आलेख का एक एक शब्द चुन च्गुन कर लगाया है. और मुक्ति के लिये जो भ्रम आदमी पाल कर रखता है उसको आपके उपरोक्त एक वाक्य ने पूरी व्याख्या दे दी है. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. @ >>Shri Praveen ji
    @ >>Shri Neeraj ji
    @ >>Pyare taushree ji
    Aap sabhi ke mulyavan vicharik sahayog ke liye bahut bahut aabhari hun.

    ReplyDelete
  13. आदरणीय राकेश जी ,
    आपकी की टिप्पणी की बदौलत आपके ब्लॉग पर आना हुआ .आपकी तीनो पोस्टें पढ़ीं.आपका लेखन एक प्रतिभाशाली व्यक्तित्व की पहचान है.मेरा सौभाग्य है कि मैं आपके ब्लॉग का अनुसरण कर रहा हूँ.
    मन की अवस्था का आपने बहुत ही सुन्दर विश्लेषण किया है.
    " बुद्धि की विचार शक्ति के द्वारा निरंतर सुविचारो के अभ्यास से इस चंचल मन में भी सदभावो का उदय हो सकता है. वैराग्य का तात्पर्य यहाँ संसार से पलायन नहीं वरन उन कुविचारो को त्यागने से है जो मन को चंचल बनाते है.अत: बुद्धि अर्थात विवेक और विचार की शक्ति के द्वारा यदि केवल आनंद का ही चिंतन किया जाये और कुविचारो का त्याग किया जाये तो यह पक्का है कि मनरूपी भाव समुन्द्र में भी आनंद की लहरें अवश्य उठने लगेंगी."

    बहुत ही बढ़िया लिखा है आपने.
    अभ्यास के द्वारा ही मन की स्विच आफ,स्विच आन वाली अवस्था भी प्राप्त की जा सकती है.जिस के द्वारा आप किसी भी स्तिथि में आनंद मग्न रह सकते हैं.

    बहुत ही शुभ कामनाएं.
    सलाम.

    ReplyDelete
  14. @ > Anjana(Gudia)ji
    @ > Jagdish Bali ji
    @ > Sagebob ji
    Aap sabhi sudhijan ki udaar tippinion se mera utsaaha vardhan hua hai.Agli post ke liye shighra koshish karoonga.Sagebob ji aapne jo man ko switch off switch on ki awastha ko prapt karne ki baat bataai wahi 'Karm yog' aur 'Karm sanyaas' ki awastha hai,jinko sahi prakaar se apnaane se kisi bhi sthiti me aanand magn reh sakte hain.

    ReplyDelete
  15. मन के हारे हार है, मन के जीते जीत. परमारथ को पाइए मन ही के परतीत '
    man prasnn ho utha is lekh ko padhkar ,upyukt shirshak diya hai ,ashant lahro ki tarah uchhlate huye man ke liye yahi rah uttam hai .aapki aabhari hoon aane ke liye .

    ReplyDelete
  16. @ > Jyoti Singh ji
    Aapka mere blog par aane ke liye bahut bahut dhanyavaad.Aapki sashakt bhava-abhivyakti ka mai
    kaayal hun.Aasha hai aapse subh prerna milti rahegi.

    ReplyDelete
  17. your new post is awaited ..regards ,

    ReplyDelete
  18. @ > Dr.Divya ji,
    Aapke aadesh ka palan karte hue naveen post 'mo ko kahan dhundhta re bande' jaari kar di hai.Feb.-March ka samay atyant vyastta ka hone ke karan hi new post nahi likh paa raha tha.

    ReplyDelete
  19. sacchi post , umda lekh k l iye badhai sweekar karein

    ReplyDelete
  20. ईश्वर अल्लाह तेरो नाम, सबको सन्मति दे भगवान
    Amazing Post Sir...

    ReplyDelete
  21. सर!बहुत अच्छा लगा आपका आलेख .

    सादर

    ReplyDelete
  22. मन ही मुक्ति का द्वार है, आपने सरलता से इस विषय को उदाहरणों के द्वारा प्रस्तुत किया है... गोपाल तक आते आते लेख और सुंदर हो गया है... बधाई!

    ReplyDelete
  23. यानि बुद्धि की विचार शक्ति के द्वारा निरंतर सुविचारो के अभ्यास से इस चंचल मन में भी सदभावो का उदय हो सकता है. वैराग्य का तात्पर्य यहाँ संसार से पलायन नहीं वरन उन कुविचारो को त्यागने से है जो मन को चंचल बनाते है...


    सार्थक बात ...अच्छा लेख ..

    ReplyDelete
  24. मन के हारे हार है, मन के जीते जीत

    आप जैसे ज्ञानी इंसान का मेरे ब्लॉग पर आना और उत्साहवर्धन करना यक़ीनन ख़ुशकिस्मती की बात है ..

    ReplyDelete
  25. aap ka lekh bahut hi manohar raha,

    aap ke vicharon ko mera naman.

    ReplyDelete
  26. bahut sahi kaha...
    ''मन के हारे हार है, मन के जीते जीत. परमारथ को पाइए मन ही के परतीत''
    aapke lekh saamayik hain. jivan ko samajhne ke liye kai jawaab mil rahe hain. aapke blog ka naam saarthak aur anuroop hai. shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete
  27. बहुत ही उच्च कोटि का प्रयास है आपका :) :)

    और ये पंक्तियाँ तो बहुत ही पसंद आई क्योंकि ये हमे बहुत प्रेरणा देती हैं "' मन के हारे हार है, मन के जीते जीत. परमारथ को पाइए मन ही के परतीत "

    ReplyDelete